ब्रेल विकास

सोमवार को अंतिम अपडेट, 16 जून 2014 11:52

ब्रेल विकास
एक संभावित साधन के रूप में ब्रेल ने अंधे लोगों को स्वतंत्र रूप से पढ़ने और लिखने, गंभीर और रचनात्मक और स्वतंत्र रूप से सोचने के लिए अधिकार दिया है। इसने उन्हें समाज में अपना चिन्ह बनाने के लिए उपयोगी और लाभप्रद ज्ञान और संचार कौशल हासिल करने में सक्षम बनाया है। ब्रेल के माध्यम से अधिग्रहित शिक्षा ने अपने पूरे व्यक्तित्व को विकसित किया है, जिससे उन्हें आत्म-जागरूकता, आत्मविश्वास और आत्मनिर्भरता के मूल्यवान गुणों के साथ प्रेरित किया गया है।

भारतीय ब्रेल के मानकीकरण में अपनी लंबी और गहरी भागीदारी के कारण एनआईवीएच को ब्रेल विकास में आधारशिला माना जाता है, यह एक प्रणाली है जो देश की सभी आधिकारिक भाषाओं और गणित, संगीत और विज्ञान के लिए नोटेशन सिस्टम से मेल खाती है। ब्रेल डेवलपमेंट यूनिट ने देश की अधिकांश आधिकारिक भाषाओं में ब्रेल संकुचन और संक्षेप और लघुरूप प्रणाली का भी योगदान दिया है।

देश और अन्य नोटेशन सिस्टम की आधिकारिक भाषाओं के लिए ब्रेल कोडों के विकास और परिष्करण के अलावा, यूनिट ने ब्रेल के विस्तार और लोकप्रियता के लिए कई परियोजनाओं और शोध अध्ययनों पर भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वर्तमान में, यह 2 प्रमुख अध्ययनों पर काम कर रहा है अर्थात् “दृश्य विकृति में विशेषज्ञता के साथ बी.एड. विशेष शिक्षा की पेशकश करने वाले विश्वविद्यालयों में शिक्षण ब्रेल की स्थिति का अध्ययन” और “भारत में भारती ब्रेल की समीक्षा” पर काम कर रहा है।

भारत में ब्रेल के विकास की निगरानी और मजबूती के लिए शरीर की निगरानी और निगरानी करने की लोकप्रिय मांग के जवाब में यूनिट ने 2008 में ब्रेल काउंसिल ऑफ इंडिया (बीसीआई) के निर्माण में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इस शरीर का एक विशिष्ट उद्देश्य भी है देश में ब्रेल विकास और ब्रेल उत्पादन से संबंधित सभी मामलों में संस्थान के निदेशक की सहायता और सलाह देना। जबकि बीसीआई मुख्य रूप से एक सलाहकार निकाय है, इसके निष्कर्ष, दिशानिर्देश और सिफारिशें देश में ब्रेल से संबंधित गतिविधियों के लिए आधार बनाती हैं। ब्रेल लेखन, ब्रेल अनुवाद सॉफ्टवेयर, ब्रेल उत्पादन या ब्रेल शिक्षण से संबंधित हार्डवेयर / सॉफ्टवेयर के विकास से संबंधित सभी नई तकनीक बीसीआई की मंजूरी के साथ मान्यता प्राप्त या डुप्लिकेट की जाएगी।

वर्ष 2008-09 और 200 9 -10 के दौरान परिषद ने 12 सितंबर से 13 सितंबर, 2008 के बीच तीन सत्र और 28.3.2009 को दूसरा और 20 मार्च, 2010 को देहरादून में तीसरा स्थान दिया। इन सत्रों के दौरान, ब्रेल विकास के लिए मुद्दों को प्राथमिकता दी गई और आने वाले वर्ष के लिए कार्रवाई की योजना भी तैयार की गई। परिषद ने संस्थान द्वारा विकसित गणित और विज्ञान के लिए कर्नाटक संगीत और एडवांस ब्रेल कोड के लिए नए विकसित ब्रेल कोड की समीक्षा करने का अवसर भी लिया। इसने एनआईवीएच के सीनियर रिसर्च ऑफिसर डॉ। मिलान दास द्वारा डिजाइन किए गए ब्रेल उपकरणों के दो प्रोटो प्रकारों का भी परीक्षण किया।

0 Comments

There are no comments yet

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Font Resize
Contrast